बिहार में नरेंद्र मोदी सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध पर उतरे युवाओं ने गुरुवार को जमकर बवाल काटा। कई जिलों में आगजनी और तोड़फोड़ की गई। वहीं ट्रेनों को रोक दिया गया और यहां तक की ट्रेनों के अंदर भी तोड़फोड़ और आग लगा दी गई। प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पूरे बिहार में पुलिस और अन्य सुरक्षा बल अलर्ट पर हैं और जगह-जगह हालात सामान्य करने की कोशिश में लगे हुए हैं। इसी बीच बिहार पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को चेतावनी देत हुए कहा कि जो भी इस मामले में हिंसक प्रदर्शन करते हुए पकड़ा जाएगा, उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। साथ ही उपद्रव में शामिल होने वालों की वीडियोग्राफी भी कराई जा रही है।

बिहार में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह ने प्रदर्शनकारियों को लेकर कहा कि अग्निवीर योजना के विरोध में हंगामा और तोड़फोड़ करने वालों को चिन्हित कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। संजय सिंह ने कहा कि सभी छात्रों से अनुरोध है कि उनकी जो भी मांग हैं, उन्हें एक मांग पत्र के जरिए सामने रखे। अगर वे ऐसा न करते हुए तोड़फोड़ या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं तो उनके खिलाफ एफआईआर की जाएगी। जो भी हिंसक होगा, उसका नाम सहित एफआईआर दर्ज होगा जो भविष्य में परेशानी का विषय बन सकता है।

बता दें कि हाल ही में नरेंद्र मोदी ने अग्निपथ योजना की अग्निवीर भर्ती के तहत सेना में चार साल की नौकरी का ऐलान किया था। इस योजना के ऐलान के बाद काफी संख्या में सरकारी नौकरियों की तैयारी कर रहे युवा भड़क गए। गुरुवार को छात्रों के प्रदर्शन में दम देखने को मिला और देखते ही देखते प्रदर्शन हिंसक हो गया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here