बिरौल। थाना क्षेत्र के पटनिया गांव में बीती रात पूर्व रंजिश को लेकर दो सगे बुजुर्ग भाइयों को लोहे की सरिया से पीट-पीटकर जख्मी कर दिया गया। इसमें से छोटे भाई 68 वर्षीय रमाकान्त खां की मौत घटनास्थल पर ही तड़प-तड़प कर दो घंटे बाद हो गयी। वहीं बड़े भाई 75 वर्षीय राधे खां का इलाज डीएमसीएच में कराने के बाद स्थिति बिगड़ती देख चिकित्सक ने बेहतर इलाज के लिए पीएमसीएच रेफर कर दिया है। घटना मंगलवार की रात्रि करीब नौ बजे की है। इस मामले में सूचना के बावजूद घटना के तीन घंटा बाद पहुंची पुलिस ने मृतक के पुत्र गोविंद खां की पत्नी विभा देवी के बयान पर 14 लोगों को नामजद व 15-20 अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। वहीं शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए डीएमसीएच भेज दिया। साथ ही जख्मी को भी इलाज के लिए डीएमसीएच भेज दिया। इधर, आक्रोशित ग्रामीण घटना के दूसरे दिन बुधवार को सिसौनी-शंकर लोहार सड़क के पटनिया गांव के समीप एक घंटा सड़क जाम कर हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे थे। बताया जाता है गांव के ही भूपनारायण चौधरी व रमाकान्त खां के साथ एक माह पूर्व एक जून को मारपीट हुई थी जिसमें दोनों पक्षों से प्राथमिकी दर्ज की गई थी। पुलिसिया कार्रवाई में शिथिलता देख भूपनारायण चौधरी ने अपने अन्य सहयोगियों के साथ रमाकान्त खां के पुत्र गोविंद खां के किराने की दुकान पर आकर लूटपाट शुरू कर दी। साथ ही दुकान पर सोये रमाकान्त खां को लोहे के सरिया एवं खन्ती से पीटने लगे। वहीं बीच-बचाव करने आये उनके बड़े भाई राधे खां को भी पीटकर जख्मी कर दिया। इस बीच रमाकान्त खां जख्मी हालत में दो घंटे तक तड़पते रहा। हत्यारा पक्ष के उग्र रुप को देखकर किसी ने बचाने की हिम्मत नहीं की। बेसहारा परिजन घटना होते ही पुलिस को आने की सूचना देकर दर्द से कराह रहे जख्मी को अस्पताल पहुंचाने के लिए गुहार लगाते रहे। पुलिस तीन घंटे बाद घटनास्थल पर पहुंची। तब तक जख्मी छोटे भाई की मौत हो चुकी थी। इधर मृतक के इकलौते पुत्र गोविंद खां नेे बताया कि हत्यारा आरोपित पिता की मौत होने तक घात लगाकर बैठे रहे। आरोपित खुलेआम बोल रहा था कि जो भी इसे बचाने या अस्पताल ले जाने आयेगा उसे भी मौत के घाट उतार दिया जायेगा जिसकारण कोई उन्हें बचाने नहीं आया। इधर, थानाध्यक्ष किशोर कुणाल झा ने बताया कि मृतक की पुत्रवधू के बयान पर मामल दर्ज कर आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here