उत्तर और दक्षिण बिहार की दूरी घटाएंगे गंगा पर बन रहे पुल

बिहार में गंगा नदी पर प्रत्येक 40 किमी में एक पुल बनाने की योजना पर काम हो रहा है. 2025 तक यह योजना धरातल पर दिखने लगेगी. इससे उत्तर और दक्षिण बिहार आने-जाने वालों को आवागमन में सुविधा होगी. उन्हें कम समय में कम दूरी तय करनी होगी.

राज्य में गंगा नदी पर पुराने चार पुल थे. सभी को मिलाकर 10 लेन के आवागमन की सुविधा उपलब्ध थी. अब नया एक पुल दो लेन का जेपी सेतु बन चुका है और 14 नये पुलों को बनाने की याेजना पर तेजी से काम हो रहा है.

2025 तक राज्य की गंगा नदी पर नये और पुराने मिलाकर कुल 62 लेन के 19 पुल हो जायेंगे. सूत्रों के अनुसार बिहार में गंगा नदी बक्सर के चौसा से प्रवेश करती है और कटिहार जिले में राज्य को छोड़ती है. इस पूरे क्रम में गंगा राज्य में करीब 526 किलोमीटर का सफर तय करती है. यह नदी बिहार को दो भाग उत्तर और दक्षिण में बांटती है. ऐसे में गंगा नदी पर औसतन प्रत्येक 40 किमी पर पुल होने से यातायात सुविधा में विकास होगा. लोगों को जाम की समस्या से छुटकारा मिलेगा.

फिलहाल 14 नये बनने वाले पुलों में से छह पीएम पैकेज के हैं. इन्हें बनाने के लिए 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी. निर्माणाधीन सभी 14 पुलों में से सात पुलों का निर्माण 2024 तक होने की संभावना है. अन्य सात पुल 2025 तक बन जायेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here