समस्तीपुर। करेह नदी के जलस्तर में वृद्धि के कारण सिरनियां- सिरसिया तटबंध के बायां तटबंध के किलोमीटर संख्या 38 पर कांकर गांव के पास रिग बांध में तेजी से कटाव हो रहा है। इसके कारण आसपास के लोगों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। करेह नदी की मुख्यधारा रिग बांध से टकराकर बह रही है, जिसके कारण रिग बांध एवं मुख्य बांध पर पानी का दबाव काफी बढ़ गया है। सिरसिया -सिरनिया करेह नदी तटबंध निर्माण के बाद इस बार 2021 में पूरे तटबंध पर मिट्टीकरण का काम किया गया। जिससे लोगों के मन से तटबंध टूटने का खतरा तो कम हुआ है लेकिन नई मिट्टीकरण के कारण एवं कहीं-कहीं मिट्टीकरण का कार्य पूरा नहीं होने के कारण दर्जनों जगहों पर रेनकट से बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। प्रखंड के खरशाम गांव के पास करेह नदी तटबंध के पास भी भीषण कटाव होने लगा है। जिससे बंबू पीचिग एवं जिओ बैग में मिट्टी भरकर उसको मजबूत करने का काम किया जा रहा है। यहां पर कटाव की गति कम हुई है। तटबंध पर करेह नदी के पानी का दबाव बढने के कारण निचले क्षेत्र में कई जगहों पर रिसाव होने की भी सूचना प्राप्त हुई है। मजरहिया कैंप पर प्रतिनियोजित जेई मुरलीधर सुधांशु ने बताया कि बायां तटबंध के अनेकों जगहों पर विभाग की ओर से जिओ बैग में मिट्टी भरकर रिसाव एवं कटाव की स्थिति से निपटने के लिए तटबंध पर रखा गया है। बाढ़ से बचाव के लिए पूर्व से ही काफी तैयारी की गई है। कांकर गांव के मुखिया प्रदीप कुमार महतो, पूर्व 20 सूत्री अध्यक्ष हरदेव पासवान, ग्रामीण हरि कांत यादव, सरवन यादव, रंजीत पासवान, सूरज पासवान, दिवाकर पासवान, प्रदुमन ठाकुर, संतोष कुमार पासवान, रामविलास पासवान, रामचंद्र यादव, अशोक महतो, बैजू यादव, अनु यादव, कृपाल यादव आदि ने विभागीय पदाधिकारी से मांग की है कि रिग बांध वाले कटाव स्थल पर चौकसी और बढ़ाया जाए। रिग बांध में हो रहे कटाव के कारण ग्रामीणों में भय समाया हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here