बिहार:- गंगा के उफान में मंगलवार को भी कमी आयी। एक सेंटीमीटर की दर से गंगा का जलस्तर घट रहा है। इससे विगत 24 घंटे में जलस्तर में 21 सेंटीमीटर की कमी आयी है। सोमवार की दोपहर गंगा का जलस्तर 47.96 मीटर पर था जो मंगलवार दोपहर कम होकर 47.75 सेंटीमीटर पर आ चुका था। हालांकि गंगा अभी भी खतरे के निशान से 2.25 सेंटीमीटर ऊपर है। गंगा के जलस्तर में कमी जारी है। इससे प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के अधिकारियों के साथ आम लोगों ने भी राहत की सांस ली है। 

यह भी पढ़ें आटा मिल कर्मी से दिनदहाड़े 2.80 लाख रुपए की लूट, पिस्टल देख दहशत में बाइक से गिरा, हाथ टूटा

उधर, बागमती के जलस्तर में वृद्धि से लदौरा-गंगौरा मुख्य पथ में  डगराहा पुल पर मंगलवार को फिर बाढ़ का पानी चढ़ गया। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि जलस्तर में वृद्धि इसी तरह जारी रही तो बघला और कलौंजर जाने वाला रास्ता दो तीन दिनों में अवरुद्ध हो सकता है। अभी भी लोग पानी हेलकर आवागमन कर रहे हैं। इधर, सोरमार ढाला से नामापुर जाने वाली मुख्य सड़क पर भी बाढ़ का पानी यथावत बरकरार है। जिससे लोग नौका से पार उतर कर यात्रा करने को विवश हैं।

सीतामढ़ी जिले में मंगलवार को 26.4 एमएम बारिश हुई। लगातार बारिश के कारण बागमती व अधवारा समूह नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है। बागमती नदी का जलस्तर, सोनाखान, डुब्बा घाट व कटौझा में लाल निशान के ऊपर है। इधर, सुन्दरपर व पुपरी में अधवारा नदी का जलस्तर लाल निशान से ऊपर बढ़ रहा है।  सीतामढ़ी-सुरसंड पथ के कुम्मा डायवर्सन पर रातो नदी का पानी चढ़ने से आवागमन बाधित है। डुमरा, बाजपट्टी, रुन्नीसैदपुर के नए इलाके में बाढ़ का फैल रहा है।

पूर्वी चंपारण के  सुगौली में सिकरहना नदी में  फिर से बाढ़ की दस्तक से लोग सहम गए हैं।  रोशनपुर-भेड़िहारी मुख्य पथ पर बाढ़ का पानी चढ़ गया है।  बंजरिया प्रखंड में तिरूवाह की लाइफ लाइन चैलाहा-कुकुरजरी पथ में कई स्थानों पर बाढ़ का पानी चढ़ गया है। भेला छपरा-मोखलिशपुर पथ में स्थित लचका पर भी  बाढ़ का पानी बह रहा है। इधर, बारिश से पताही-शिवहर पथ में जगह-जगह जलजमाव होने से आवागमन में  परेशानी हो रही है। डुमरिया घाट व चटिया में गंडक नदी के जलस्तर में गिरावट आई है। लाल बेगिया सिकरहना में बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर बढ़ने लगा है। लाल बकेया गुवाबारी में बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में गिरावट आई है। अहिरौलिया में बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी है। गंडक बराज ने मंगलवार को 1,33 ,500 क्यूसेक पानी छोड़ा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here