• पैसे लेने की खबर छपने के बाद सोनपुर और समस्तीपुर मंडल के अधिकारियों में दिनभर रही हलचल
  • डीसीआई ने जांच कर कोच अटेंडेंट और एजेंसी का पता लगाया, समस्तीपुर मंडल को कार्रवाई के लिए सौंपा

मुजफ्फरपुर से आनंद विहार जाने वाली गरीब रथ में बेटिकट यात्रियों से 1200 लेकर सफर कराने वाले कोच अटेंडेंट की पहचान हो गई है। सोनपुर मंडल के सीनियर डीसीएम चंद्रशेखर प्रसाद के निर्देश पर डीसीआई धनंजय कुमार और सीडीओ राजीव रंजन ने शनिवार को नॉर्थ रेलवे से संपर्क कर आराेपी की पहचान की।

इसके बाद नॉर्थ रेलवे ने बताया, वीडियो में दिख रहे दोनों युवक ट्रेन में सफाई सुपरवाइजर हैं। पहचान के बाद सोनपुर मंडल को डीसीआई ने रिपोर्ट भेजी है। हालांकि, सोनपुर मंडल ने गरीब रथ का क्षेत्राधिकार समस्तीपुर मंडल में होने के कारण मामले को हस्तांतरित कर दिया है। दोपहर बाद समस्तीपुर मंडल के डीआरएम को घटना की जानकारी हुई ताे उन्होंने तत्काल सीनियर डीसीएम सरस्वतीचंद्र को कार्रवाई करने का निर्देश दिया। सरस्वतीचंद्र ने नॉर्थ रेलवे से संपर्क कर गरीब रथ में सफाई कराने वाली एजेंसी का ब्याेरा मांगा।

उन्होंने कहा कि दैनिक भास्कर ने स्टिंग ऑपरेशन कर जंक्शन पर सफाई कर्मियों द्वारा रुपए वसूल कर दिल्ली ले जाने की खबर प्रकाशित कर सराहनीय कार्य किया है। वहीं, जैसे ही सफाई एजेंसी की रिपोर्ट आएगी तो सफाई सुपरवाइजर पर कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी।

बता दें कि दैनिक भास्कर के शनिवार के अंक में शुक्रवार को जंक्शन से खुलने वाली गरीब रथ में बिना टिकट यात्रा कराने का आश्वासन देकर यात्रियों से 1200 रुपए वसूलने की खबर प्रकाशित हुई थी। इस खबर पर सोनपुर मंडल ने स्वत: संज्ञान लिया। डीसीआई धनंजय कुमार व सीडीओ राजीव रंजन को जांच का निर्देश दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here