समस्तीपुर ;- डाॅo राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय,पूसा में 07-08 अगस्त को होने वाली एलडीसी एवं जूनियर अकाउंटेंट क्लर्क की परीक्षा को कोरोना की लहर को देखते हुए स्थगित कराने को आइसा ने निकाला प्रतिवाद मार्च

विश्वविद्यालय द्वारा शॉर्टलिस्ट के माध्यम से छांटे गए हजारों छात्रों की न तो परीक्षा ली जा रही है और न ही छात्रों का पैसा वापस किया जा रहा है। एक छात्र को फाॅर्म भरने में 500-600 रूपये लगे हैं :- आइसा

  पूसा, 04 अगस्त 2021.
             डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय,पूसा में 07-08 अगस्त को होने वाली एलडीसी एवं जूनियर अकाउंटेंट क्लर्क की परीक्षा को कोरोना की लहर एवं परीक्षार्थियों के कोरोना संक्रमित होने की संभावनाओं को देखते हुए स्थगित करने व कोरोना के प्रभाव में कमी आने के बाद इस परीक्षा को लेने के साथ ही इस परीक्षा के लिए विश्वविद्यालय द्वारा शॉर्टलिस्ट के माध्यम से छांटे गए हजारों छात्रों को परीक्षा में शामिल करने की मांग को लेकर आइसा कार्यकर्ताओं ने बुधवार को प्रतिवाद मार्च निकाला। ये मार्च उमा पांडेय महाविद्यालय से शुरू हुई। काॅलेज से विश्वविद्यालय के कुलपति के खिलाफ नारेबाजी करते हुए आइसा कार्यकर्ताओं का मार्च विभिन्न मार्गों से होकर डाॅo राजेन्द्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के मुख्य गेट पर पहुंचकर सभा में तब्दील हो गया। सभा की अध्यक्षता आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार ने की। संचालन छात्रसंघ कोषाध्यक्ष दीपक कुमार ने किया। 
    मुख्य वक्ता के रूप में मौजूद भाकपा-माले प्रखंड सचिव अमित कुमार ने कहा कि बिहार सरकार के गृह विभाग के द्वारा दिनांक -05.07.2021 को जारी आदेशानुसार विश्वविद्यालय द्वारा किसी भी तरह की परीक्षा लेने पर रोक लगी हुई है लेकिन डॉo राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय द्वारा आगामी 07-08 अगस्त को एलडीसी एवं जूनियर अकाउंटेंट क्लर्क की परीक्षा ली जा रही है जिसमें देश के विभिन्न कोनों से दस हजार से ऊपर की संख्या में छात्र भाग लेंगे। जिससे परीक्षार्थियों के कोरोना संक्रमित होने के साथ- साथ स्थानीय लोगों के लिए भी संक्रमण का खतरा रहेगा। सभी लोगों ने कोरोना की दूसरी लहर की भयावहता को देखा है। दूसरी लहर में विश्वविद्यालय परिसर में सैकड़ों विद्यार्थी एवं कर्मचारी कोरोना संक्रमित हुए थे। जिस कारण विश्वविद्यालय परिसर को कंटेनमेंट जोन की श्रेणी में रखा गया था। इसी आशंका को देखते हुए 07-08 अगस्त को विश्वविद्यालय में होने वाली परीक्षा को तत्काल के लिए स्थगित कराई जाए। यदि इस परीक्षा को प्रशासन द्वारा तत्काल स्थगित नहीं कराया जाता है तो परीक्षा होने के बाद परीक्षार्थी व स्थानीय लोग कोरोना संक्रमित हुए एवं क्षेत्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या में इजाफा हुआ तो इसकी जिम्मेवारी प्रशासन व कुलपति की होगी। 
         आइसा प्रखंड अध्यक्ष रौशन कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय में बड़े पैमाने पर नियुक्ति घोटाला कुलपति के इशारे पर हुआ है। नियुक्तियों में धांधली कर बड़े स्तर पर धन की उगाही की गई है। धन उगाही का जीता-जागता उदाहरण ये है कि एलडीसी और जूनियर अकाउंटेंट क्लर्क की विश्वविद्यालय द्वारा शॉर्टलिस्ट के माध्यम से छांटे गए हजारों छात्रों की न तो परीक्षा ली जा रही है और न ही छात्रों का पैसा वापस किया जा रहा है। एक छात्र को फाॅर्म भरने में 500-600 रूपये लगे हैं। आइसा मांग करती हैै कि विवि द्वारा जारी किए गए शार्टलिस्ट को खारिज करते हुए फाॅर्म भरे हुए सभी विधार्थियों की परीक्षा ली जाए अन्यथा आंदोलन तेज किया जाएगा। मौके पर जिला सह-सचिव प्रीति कुमारी, जिला उपाध्यक्ष मनीषा कुमारी, जिला कार्यालय सचिव राजू कुमार झा, उमा पांडेय महाविद्यालय छात्रसंघ कोषाध्यक्ष दीपक कुमार, महासचिव सुधांशु कुमार, उपाध्यक्ष मनीष कुमार, आइसा नेता तुषार कुमार, राहुल कुमार, अनमोल कुमार, प्रवीण कुमार, राजेश कुमार बुटन, संजीव कुमार,रोहित कुमार, राजद नेता राजेश सहनी, कुंदन कुमार इत्यादि मौजूद थे।

             भवदीय
           रौशन कुमार
    प्रखंड अध्यक्ष,पूसा सह

जिला उपाध्यक्ष “आइसा” समस्तीपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here