मुजफ्फरपुर की तीनों प्रमुख नदियां लाल निशान पार कर बह रही हैं। खतरे के निशान से ऊपर पहुंची बूढ़ी गंडक के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है। मंगलवार को 20 सेंटीमीटर वृद्धि के साथ बूढ़ी गंडक का जलस्तर खतरे के निशान से 16 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच गया। इससे शहर पर दबाव बढ़ने लगा है। बागमती के जलस्तर में मामूली वृद्धि हुई है, जबकि गंडक का जलस्तर अब स्थिर हो गया है।

बागमती का जलस्तर कटौझा में खतरे के निशान से 1 मीटर 47 सेंटीमीटर तो बेनीबाद में 1.29 मीटर ऊपर पहुंच जाने से औराई, कटरा व गायघाट प्रखंड में बाढ़ की स्थिति अत्यधिक भयावह हो गई है। औराई-कटरा-बेनीबाद रोड पर परिचालन पूरी तरह ठप हो गया है। कटरा प्रखंड की 14 पंचायतों का सड़क संपर्क टूट गया है। जिला प्रशासन ने कटरा प्रखंड की सात, औराई की चार और कांटी प्रखंड की छह पंचायतों को बाढ़ प्रभावित घोषित किया है। हालांकि, गायघाट, मीनापुर, साहेबगंज व पारू प्रखंड में भी बाढ़ की स्थिति गंभीर है। साहेबगंज प्रखंड में गंडक का जलस्तर खतरे के निशान से 25 सेंटीमीटर ऊपर है। इससे तीन पंचायत की दस हजार आबादी प्रभावित हुई है।

नदियों का जलस्तर
नदी     लाल निशान   सोमवार  मंगलवार
गंडक    54.41          54.54    54.66
बूढ़ी गंडक52.53          52.24    5269
बागमती  55.23          57.00    56.70

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here