बिहार में नई सरकार ने कमान संभाल ली है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री बने हैं. शपथ लेने के बाद उन्होंने घोषणा की है कि अगले एक महीने में राज्य के गरीबों और युवाओं को बंपर रोजगार दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि यह इतना भव्य होगा, जैसा किसी और राज्य में अबतक नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि बिहार ने वह किया है, जिसे देश को जरूरत थी. हमने उन्हें एक रास्ता दिखाया है.हमारी लड़ाई बेरोजगारी के खिलाफ है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गरीबों और युवाओं के दर्द को महसूस करते हैं.

तेजस्वी यादव ने कहा, आज बिहार ने वो कर दिखाया है जो देश को करना है. हम लोगों ने सदन से लेकर सड़क तक बेरोजगारी की लड़ाई लड़ी है. मुख्यमंत्री जी के निर्णय से हम लोगों को एक मौका मिला है कि जनता और नौजवानों के दुख-दर्द को दूर कर सकें. उन्होंने कहा कि रोजगार को लेकर हमारी मुख्यमंत्री जी से बात हुई है और 1 महीने के अंदर बिहार में लोगों को ऐसी बंपर नौकरियां मिलेगी जो किसी और राज्य में नहीं हुआ होगा.

आरजेडी और जेडीयू की सरकार ने संभाली कमान

राजभवन में आयोजित एक सादे समारोह में राज्यपाल फागू चौहान ने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री और तेजस्वी यादव को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. बिहार में आरजेडी, जदयू, कांग्रेस और वाम दलों के महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अब इस बात पर चर्चा तेज हो गई है कि इस सरकार का एजेंडा क्या होगा. बिहार में 2020 में हुए चुनाव में तेजस्वी यादवी की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने 10 लाख नौकरियां देने का वादा किया था. वहीं नीतीश कुमार की पार्टी जदयू सात निश्चय-2 के वादों के साथ सत्ता में लौटी थी.

तेजस्वी के सरकार में शामिल होने के बाद बिहार के युवाओं में एक बार फिर नौकरियों का आशा जग गई है, क्योंकि आरजेडी के चुनाव घोषणा पत्र में ही 10 लाख नौकरियां पहली ही बैठक में देने की बात कही गई है. अपनी पार्टी के इसी वादे और राज्य के लोगों की आकंक्षाओं को ध्यान में रखते हुए तेजस्वी ने बंपर नौकरियां देने की बात कही. बिहार में बेरोजगारी और युवाओं का पलायन एक बड़ा मुद्दा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here