जदयू को मणिपुर में बड़ा झटका लगा है। राज्य में पार्टी के पांच विधायक शुक्रवार को सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए। मणिपुर विधानसभा सचिव के मेघजीत सिंह की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि विधानसभा अध्यक्ष ने जदयू के पांच विधायकों के भाजपा में विलय को स्वीकार कर लिया है।

छह विधायकों में पांच बीजेपी में शामिल

बयान के अनुसार, संविधान की दसवीं अनुसूची के तहत यह स्वीकृति दी गई है। जदयू ने इस साल मार्च में हुए विधानसभा चुनाव में 38 सीटों पर चुनाव लड़ा था। इनमें से छह सीटों पर उसे जीत हासिल हुई थी। भाजपा में शामिल हुए जदयू के विधायकों में के जायकिशन, एन सनाटे, मोहम्मद अचब उद्दीन, पूर्व डीजीपी एलएम खौटे और थंगजाम अरुणकुमार शामिल हैं। खौटे और अरुणकुमार ने पहले भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी। लेकिन, भाजपा द्वारा टिकट देने से इन्कार करने के बाद दोनों नेता जदयू में शामिल हो गए।

मंत्री ने दिया इस्तीफा

बीते बुधवार बिहार सराकर में मंत्री रहे कार्तिक कुमार ने ने कैबिनेट से इस्तीफा दिया था। उसी दिन उनका विभाग बदला गया था। उन्हें विधि के बदले गन्ना उद्योग विभाग की जिम्मेदारी दी गई थी। लेकिन बुधवार की देर शाम कार्तिक सिंह ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने के बाद कार्तिक सिंह ने कहा था कि भाजपा को आरजेडी कोटे से भूमिहार समाज का मंत्री हजम नहीं हो रहा था। इस वजह से वे हायतौबा मचा रहे थे। वहीं, अपने इस्तीफे की वजह बताते हुए उन्होंने कहा था कि सीएम नीतीश कुमार और डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव के साथ ही उनकी प्रतिष्‍ठा धूमि‍ल हो रही थी। इसको देखते हुए उन्‍होंने अपने पद से त्‍यागपत्र दे दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here