नीरज चोपड़ा ने गुरुवार को यहां ऐतिहासिक डायमंड लीग ट्रॉफी जीतकर ट्रॉफी जीतने वाले पहले भारतीय बन गए। ओलंपिक गोल्ड विजेता नीरत ने अपनी रात की शुरुआत फाउल थ्रो से की। हालांकि, उन्होंने अपने दूसरे प्रयास में 88.44 मीटर का थ्रो किया और यह प्रतियोगिता को अपने लिए नाम करने के लिए पर्याप्त था। टोक्यो ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता ने अपने तीसरे प्रयास में 88 मीटर और अपने चौथे प्रयास में 86.11 मीटर का थ्रो दर्ज किया। उनका पांचवां प्रयास 87 मीटर था जबकि उनका अंतिम प्रयास 83.6 मीटर का रहा।

पहला थ्रो रहा फाउल

नीरज चोपड़ा को अच्छी शुरुआत नहीं मिली क्योंकि उनके पहले प्रयास को ‘नो थ्रो’ घोषित किया गया था। इस बीच, चेक गणराज्य के ओलंपिक रजत पदक विजेता जैकब वडलेज्च ने 84.15 मीटर के थ्रो के साथ बढ़त बना ली। लेकिन अपने अपने दूसरे प्रयास में 88.44 मीटर का थ्रो किया और यहीं उनके पदक जीतने के लिए काफी रहा। चेक गणराज्य के जैकब वाडलेज 86.94 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ दूसरे स्थान पर रहे। जर्मनी के जूलियन वेबर ने 83.73 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ पोडियम तीसरे नंबर पर रहे।

शानदार वापसी

इससे पहले, चोपड़ा ने लुसाने डायमंड लीग में 89.08 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ भाला फेंक प्रतियोगिता जीती थी। जुलाई में अमेरिका में विश्व चैंपियनशिप में रजत जीतने के दौरान कमर में मामूली चोट के कारण वह बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स (28 जुलाई से 8 अगस्त) में भाग नहीं ले सके थे। इससे पहले नीरज चोपड़ा 2021 में ओलंपिक स्वर्ण, 2018 में एशियाई खेलों का स्वर्ण, 2018 में राष्ट्रमंडल खेलों का गोल्ड, 2022 में विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप का रजत अपने नाम कर चुके हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here