दरभंगा। सरकार दरभंगा एयरपोर्ट को विकसित करने और यहां यात्री सुविधाओं को बढ़ाने के लिए लगातार प्रयासरत है। लेकिन, एयरपोर्ट संचालन के नौ महीने बाद भी यहां के लिए एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी गठित नहीं हो पाई है। इस कारण से यात्री की आवाज और उनके लिए उपलब्ध कराई जानेवाली मूलभूत सुविधाओं की मानीटरिग नहीं हो पा रही है। जानकार बताते हैं कि कमेटी का गठन बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था। लेकिन, तकनीकी पेंच में पूरा मामला उलझा है। जबकि, इन नौ महीनों में दरभंगा से देश के विभिन्न महानगरों को जाने वाले यात्रियों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि हुई है। साथ ही विमानों की संख्या तीन से बढ़कर दस हो चुकी है। एयरपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक, इस कोरोना काल में भी यहां से औसतन प्रतिदिन करीब तीन हजार यात्री सफर कर रहे है। जो अपने आप में देश के अन्य एयरपोर्ट के लिए नजीर पेश कर रहा है। बावजूद इसके जिस तरह यात्रियों की संख्या में दरभंगा एयरपोर्ट पर तेजी देखने को मिली है, उस हिसाब से यात्री सुविधाएं नगण्य के बराबर है।

सबसे बड़ी परेशानी यात्रियों के खड़े रहने और बैठने को लेकर है। धूप-बारिश के दिनों में यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं, टिकट कांउटर और सुरक्षा जांच के लिए यात्री को लंबी लाइन लगानी पड़ती है। कई बार तो ग्राउंड स्टाफ और एयरपोर्ट कर्मचारियों को यात्रियों की खरी-खोटी भी सुननी पड़ती है। कई यात्रियों ने बताया कि शुरुआती कुछ दिनों तक यात्री सुविधा के आगे होने वाली परेशानियों को नजर अंदाज तो कर सकते है, लेकिन यह सिलसिला यदि लंबे समय तक चला तो फिर यात्रियों को परेशानी होगी। बार-बार एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से पत्र लिखे जाने के बावजूद भी इसका गठन नहीं हो पाना खेदपूर्ण है।

यह हैं नियम

एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी के गठन का मुख्य उद्देश्य एयरपोर्ट पर यात्रियों सुविधाओं के मद्देनजर मूलभूत सुविधाओं को बहाल कराने में अपनी राय रखना है। साथ ही एयरपोर्ट पर यात्री सुविधा और यात्री सेवा को बढ़ावा देना है। इस कमेटी के चेयरमैन स्थानीय सांसद होते है। इनकी अध्यक्षता में ही एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी का गठन किया जाता है। इस कमेटी में स्थाई तौर पर संबंधित विधानसभा क्षेत्र के विधायक, एयरपोर्ट डायरेक्टर, एयरलाइंस कंपनी के प्रतिनिधि, एयरपोर्ट के मुख्य सुरक्षा अधिकारी, जिलाधिकारी, डीआईजी, एसएसपी और नगर आयुक्त सदस्य होते है। वहीं, ट्रेड, इंडस्ट्री और टूर एंड ट्रेवल्स क्षेत्र से दो-दो लोगों को सांसद नामित करते हैं। इसके अतिरिक्त नागर विमानन मंत्रालय विभिन्न क्षेत्रों से संबंध रखने वाले तीन लोगों को नामित करती है। वहीं, जिलाधिकारी को भी ट्रेड, इंडस्ट्री और टूर एंड ट्रेवल्स से नामित करने का अधिकार है। —

जिलाधिकारी भेज चुके रिपोर्ट

जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एसएम ने बताया कि एयरपोर्ट एडवाइजरी कमेटी के लिए उनकी ओर से नामित लोगों की सूची भेज दी गई है। अगले आदेश का इंतजार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here