बिहार/ समस्तीपुर:- लाकडाउन में ढ़ील के बाद धीरे धीरे बाजार तो गुलजार हो गया लेकिन कहीं भी कोरोना संबंधित गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। व्यवसायिक प्रतिष्ठान हो या फिर मंडियां अथवा गांव का हाट बाजार कहीं भी शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो रहा है। न ही कहीं सैनिटाइजिग की व्यवस्था देखी जा रही है। विगत माह अधिकतर लोग मास्क लगाए नजर आ रहे थे, आज इक्का-दुक्का ही मास्क लगाना मुनासिब समझते हैं। कुल मिलाकर गाइडलाइन की उड़ रही धज्जियों से यह स्पष्ट है कि व्यवसायी हो या आम लोग एक बार फिर से संक्रमण को आमंत्रण देने में लगे हैं। बताते चलें कि कोविड-19 के तीसरे वेब की आशंका को देखते हुए सरकार द्वारा हर हाल में गाइडलाइन को पालन करने की नसीहत दी गई है। पूर्व की भांति ही शारीरिक दूरी बनाए रखने, प्रत्येक व्यक्ति को मास्क लगाने के साथ-साथ सार्वजनिक स्थानों एवं व्यवसायिक परिसर को पूर्णत: साफ सुथरा व सैनिटाइज रखने के साथ-साथ प्रत्येक प्रतिष्ठान पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था का निर्देश दिया गया है। पूर्व के दिनों में व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के सामने भी शारीरिक दूरी को पालन कराने के लिए निर्धारित स्थानों पर गोला बनाया गया था। और ग्राहक उक्त गोला में खड़ा होकर ही अपनी बारी का इंतजार करते थे। लेकिन आजकल कहीं भी इसका पालन नहीं हो पा रहा है। और तो और बैंकों एवं अन्य सरकारी गैर सरकारी संस्थानों में भी यही स्थिति बनी हुई है। इसी प्रकार पूर्व में शत प्रतिशत प्रतिष्ठानों व दुकानों में सैनिटाइजिग की व्यवस्था सुनिश्चित की गई थी। और तो और कई व्यापारी द्वारा रूपया तक को सेनेटाईज करते देखा जा रहा था। लेकिन आज प्रोटोकाल का पालन नहीं करने से स्पष्ट है कि लोगों के अंदर से कोरोना संक्रमण का भय समाप्त हो चुका है। आज भी विश्व के कई देशों के साथ-साथ अपने देश के अंदर केरला, कर्नाटका समेत विभिन्न प्रदेशों में संक्रमण का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। और यदि आम लोग स्वत:जागरूक और सचेत नहीं हुए तो पुन: संक्रमण की मार झेलना संभव है।

दूसरी ओर गाइडलाइन का अनुपालन नहीं होने के लिए प्रशासनिक उदासीनता भी जिम्मेवार है। पूर्व में प्रशासनिक टीम द्वारा प्रतिष्ठानों बाजारों में भी प्रोटोकाल का जायजा लिया जाता था। प्रत्येक चौक चौराहों पर मास्क की सघन चेकिग और जुर्माना भी वसूल की जाती थी। लेकिन करीब एक पखवाड़ा से इसमें भी काफी कमी देखी जा रही है। वर्जन

कोरोना अभी पुर्ण रूप से गया नहीं है। इसीलिए सभी व्यवसायियों को अपने अपने प्रतिष्ठानों पर निश्चित रूप से कोरोना गाइडलाइन का अनुपालन सुनिश्चित कराना चाहिए । शारीरिक दूरी एवं सेनेटाईजिग के साथ साथ मास्क लगाना आज भी पूर्व की तरह ही आवश्यक है।

कृष्ण कुमार लखोटिया

अध्यक्ष

चैंबर ऑफ कॉमर्स, रोसड़ा वर्जन

कोरोना प्रोटोकॉल को प्राथमिकता के तौर पर मेंटेन कराने संबंधित निर्देश सभी प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी एवं थाना अध्यक्षों के साथ साथ नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी को भी दिया जा चुका है।

ब्रजेश कुमार

अनुमंडल पदाधिकारी, रोसड़ा

इनपुट दैनिक जागरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here