प्रतापगढ़ से कानपुर जा रही इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन के लोको पायलट गिरीश चंद्र शर्मा शुक्रवार की सुबह कासिमपुर हाल्ट पर ट्रेन पहुंचने पर इंजन में खराबी को ठीक करते समय हार्ट अटैक पड़ने से मौके पर ही मौत हो गई। असिस्टेंट योगेश कुमार ने घटना की सूचना फौरन स्टेशन मास्टर को दी। स्टेशन मास्टर ने घटना की सूचना डीआरएम को देने के बाद 108 एम्बुलेंस की मदद से उन्हें सीएचसी फुरसतगंज पहुंचाया। अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने लोको पायलट को मृत घोषित कर दिया।

जायस स्टेशन मास्टर अरविंद साहू ने बताया कि मृतक लोको पायलट गिरीश चंद्र शर्मा हेड क्वार्टर प्रतापगढ़ में तैनात थे। इनका मूल निवास चिलबिला प्रतापगढ़ था। शुक्रवार की सुबह प्रतापगढ़ से कानपुर  जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस 14123 को लेकर असिस्टेंट योगेश कुमार के साथ निकले थे। एसएम ने बताया कि शुक्रवार की सुबह समय पांच बजकर 50 मिनट पर कासिमपुर हाल्ट पर ट्रेन पहुंची। 

अगले स्टेशन को रवाना होने से पहले किसी यात्री ने चैन पुलिंग कर दी। इससे इंजन के पीछे प्रेशर पाइप फट गया। प्रेशर पाइप को लोको पायलट ट्रेन से उतरकर ठीक कर रहे थे, तभी अचानक चक्कर खाकर वह पटरी पर ही गिर गए। असिस्टेंट योगेश कुमार ने इसकी सूचना तत्काल जायस स्टेशन मास्टर अरविंद साहू को दी। स्टेशन मास्टर ने तत्काल 108 एम्बुलेंस को फोन कर उसे सीएचसी फुरसतगंज भिजवाया। जहां पर डॉक्टर विनय कुमार वर्मा ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

घटना की सूचना एसएम ने डीआरएम उत्तर रेलवे एसके सापरा को दी। सूचना मिलते ही डीआरएम ने एडीएन परविंदर को घटना स्थल के लिए रवाना कर दिया। अस्पताल में मृत लोको पायलट का शव आरपीएफ के जवानों ने अपने कब्जे में ले लिया, फिर उसके बाद थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए गौरीगंज भेज दिया।

हाल्ट पर करीब डेढ़ घंटे खड़ी रही ट्रेन

इण्टरसिटी एक्सप्रेस में शुक्रवार सुबह आई खराबी की वजह से कासिमपुर हाल्ट पर ट्रेन करीब डेढ़ घंटे खड़ी रही। रायबरेली हेडक्वार्टर से आए लोको पायलट विकास कुमार सिंह करीब साढ़े सात बजे ट्रेन लेकर कानपुर के लिए रवाना हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here