राज्य में स्नातक उत्तीर्ण पौने दो लाख छात्राओं को प्रोत्साहन राशि देने की तैयारी हो रही है। शिक्षा विभाग ने सभी कुलपतियों को चिट्ठी लिखकर लाभुक छात्राओं के लंबित आवेदनों को पोर्टल पर अपलोड कराने हेतु आवश्यक तकनीकी तैयारी सुनिश्चित करने को कहा है। इस बारे में पहले ही विभाग के स्तर से प्रशिक्षण कार्यशाला कराई जा चुकी है। पोर्टल पर आवेदनों के सत्यापन के बाद लाभुकों के खाते में प्रोत्साहन के रूप में 50-50 हजार की राशि डीबीटी के माध्यम से भेजी जाएगी।

शिक्षा विभाग ने निर्देश जारी कर कहा है कि प्रदेश के यूनिवर्सिटीज में पौने दो लाख छात्राओं का आवेदन जांच हेतु पेंडिंग है। यह मामला गंभीर है। एकेडमिक सेशन 2015-18 एवं 2016-19 तथा 2017-20 में ग्रेजुएट पास छात्राओं के आवेदनों के सत्यापन नहीं होने के वजह से राशि नहीं मिली है। शिक्षा विभाग के संबंध में कई दफा की कुलपतियों को आदेश दिया है।

हर विश्वविद्यालय के स्तर पर एप्लीकेशनों का सत्यापन होने‌ पर लाभुक छात्राओं को राशि का भुगतान हो सकेगा। सेशन 2020-21 और 2021-22 बैच की ग्रेजुएट पास करने वाली छात्राओं के एप्लीकेशन अब पोर्टल पर अपलोड होंगे, ताकि ससमय आवेदनों का सत्यापन हो सके और प्रोत्साहन राशि लाभुकों को भेजी जा सके। पोर्टल पर आवेदन 7 जुलाई से अपलोड होगा। गलत नाम से एप्लीकेशन पोर्टल पर अपलोड नहीं हो पाएगा। आवेदन के दौरान ही आवेदक का नाम, कॉलेज और यूनिवर्सिटी के साथ ही किस विषय के लिए मान्यता मिली है, उसकी जांच होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here