बिहार के किसानों को योगी सरकार बड़ी सहायता देने की तैयारी में है। आंधी-बारिश के चलते हुई फसल नुकसान को लेकर नीतीश सरकार ने यह फैसला किया है। कृषि मंत्री अमरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा है कि अत्यधिक बारिश के कारण हुए फसल नुकसान की रिपोर्ट जिलों से फिर मांगी जाएगी। रिपोर्ट के आधार पर आपदा प्रबंधन के मानकों के अनुसार किसानों को हर संभव सहायता दी जाएगी। बुधवार को विधानसभा में यह जानकारी मंत्री ने ललित कुमार यादव, आलोक कुमार मेहता, भूदेव चौधरी व भाई वीरेन्द्र के ध्यानाकर्षण के जवाब में दी।

मंत्री ने कहा कि जून में 167.7 मिमी के मुकाबले 354.3 मिमी बारिश हुई जो सामान्य से 111 फीसदी अधिक है। इस कारण पूर्वी चम्पारण, पश्चिमी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी में धान के बिचड़े को नुकसान हुआ है। इन जिलों में विभाग ने किसानों को मुफ्त में बीज का वितरण किया है। ललित यादव ने पूरक प्रश्न में कहा कि मंत्री ने केवल चार जिले में अधिक बारिश होने का हवाला दिया जबकि हकीकत है कि दरभंगा, समस्तीपुर, सुपौल सहित पूरे उत्तर बिहार में अधिक बारिश से किसानों को नुकसान हुआ है।

इस पर मंत्री ने कहा कि बिचड़ा नष्ट होने पर सरकार मुफ्त बीज देती है। इसके लिए अलग से अनुदान देने का कोई प्रावधान नहीं है। शोरशराबे के बीच मंत्री ने कहा कि जिलों से एक बार फिर रिपोर्ट मंगाई जाएगी कि कहां-कहां क्या नुकसान हुआ है। आपदा प्रबंधन के मानक के अनुसार प्रभावित किसानों को राहत दी जाएगी। आपदा मद में पैसे की कोई कमी नहीं है। हर प्रभावित को सरकार जरुरत सहायता प्रदान करेगी। किसी भी सदस्य के पास अगर क्षेत्र विशेष में फसल नुकसान की जानकारी है तो वे सरकार को इसकी सूचना दे सकते हैं, उस पर कार्रवाई होगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here