बिहार से कोरोना संक्रमण के छह नए केस मिले हैं। बीते 24 घंटे में किए गए टेस्ट में पटना से किसी भी व्यक्ति की रिपोर्ट पाजिटिव नहीं आई है। स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में बताया कि बीते 24 घंटे के दौरान विभाग की ओर से 200234 कोविड टेस्ट किए गए, जिसमें छह रिपोर्ट पाजिटिव पाई गई। सारण से तीन, रोहतास, मधुबनी, समस्तीपुर से एक-एक संक्रमित मिले हैं। संक्रमित रहे सात मरीज स्वस्थ हुए हैं। इसके साथ ही कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 44 रह गई है। बता दें कि छठ महापर्व को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग अधिक से अधिक कोविड टेस्ट कर रहा है। तमाम बस अड्डों के साथ ही रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डों पर भी कोविड टेस्ट की व्यवस्था की गई है।

चार और जिलों में खुलेंगे आरटी-पीसीआर लैब

प्रदेश में पूर्व से स्थापित 33 आरटी-पीसीआर लैब की कड़ी में और चार जिलों में ये लैब खोले जाएंगे। रोहतास, किशनगंज, कटिहार और सहरसा में लैब खुलेंगे। स्वास्थ्य विभाग ने नए लैब स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव और चिकित्सा व्यवस्था के लिए प्रदेश सरकार और स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयास कर रहे हैं। वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए आरटी-पीसीआर जांच बेहद ही कारगर है। इस जांच के जरिए कोरोना वायरस की जानकारी मिल जाती है, जिससे वायरस का प्रसार रोकने और पीडि़त का इलाज करना आसान होता है।

मंत्री ने कहा कि सरकार प्रदेश में आरटी-पीसीआर जांच की सुविधा को सरल और सुलभ बना रही है। रोहतास, किशनगंज, कटिहार और सहरसा जिला के सदर अस्पताल में आरटीपीसीआर लैब का निर्माण किया जाएगा। फिलहाल प्रदेश के 33 जिलों में आरटीपीसीआर जांच की सुविधा उपलब्ध है। पिछले साल कोरोना का कहर शुरू हुआ था तो संक्रमण की पुष्टि कर पाना काफी कठिन था। इसलिए राज्य सरकार कोरोना जांच की व्यवस्था को सुदृढ़ कर रही है। चार नए लैब बनने के बाद 37 जिलों में आरटी-पीआर टेस्ट की सुविधा हो जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here