लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान के तहत छपरा के हर पंचायतों को सुंदर एवं स्वच्छ बनाने के लिए लोहिया स्वच्छ बिहार के द्वारा तरल एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन हेतु वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट निर्माण के लिए मढौरा के चार पंचायतों का चयन हुआ है। बेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट के बन जाने से पंचायत स्वच्छ और सुंदर होगा। इसमें चयनित पंचायतों के तमाम वार्डों में दो-दो स्वास्थ्य कर्मी की तैनाती होगी जो पैडल रिक्शा से हर घर से कचरा उठाएंगे और उसे वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट तक पहुंचाएंगे।

एक स्वच्छता पर्यवेक्षक पंचायत स्तर पर होंगे, इनका काम सभी चीजों का मानिटरिग करना होगा। एक ओर सभी वार्डों में पैडल रिक्शा होगी तो पंचायत स्तर पर एक इलेक्ट्रिक रिक्शा होगी, जो कचरा उठाने में मदद करेगी। मढौरा जिन पंचायतों को इसके लिए चयनित किया गया है उसमें मिर्जापुर, भुआलपुर, माधोपुर और शिलहौरी का नाम शामिल है। स्वच्छता कर्मी घरों से निकलने वाले कचरे को बेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट तक पहुंचाएंगे और सभी कचरों में सूखा कचरा अलग करने के बाद ब्लॉक स्तर से जिला में रिसाइक्लिग के लिए भेजेंगे, जबकि गीले कचरे से रासायनिक उर्वरक बनाए जाएंगे

वेस्ट प्रोसेसिग यूनिट के लिए शीलहौरी, मिर्जापुर और माधोपुर इन तीनो पंचायतों में वेस्ट प्रोसेसिग प्लांट निर्माण के लिए पंचायतो में जगह चिन्हित हो गया है, जबकि भुआलपुर में फिलहाल स्थल चिन्हित नही हो पाया है। मनरेगा के तहत वेस्ट प्रोसेसिग यूनिट का निर्माण किया जाना है। इसके लिये शिलहौरी में निर्माण कार्य शुरू हो गया है, जबकि मिर्जापुर पंचायत में ले आउट हो गया है। फिलहाल माधवपुर पंचायत में यह शुरू नहीं हो पाया है। वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट बनने से पहले सभी चीजों की खरीदारी होगी।

मढौरा के बीडीओ सुधीर कुमार ने जानकारी दी कि फिलहाल चार पंचायतों में यह शुरू हुआ है। पंचायतों को सुंदर और स्वच्छ बनाने के के लिए यह स्कीम है। इन चारों पंचायतों के लिए स्वच्छता कर्मी भी चयनित कर लिए गए हैं। मढौरा के सभी पंचायतों में धीरे-धीरे वेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट का निर्माण किया जाएगा।

विवेक रंजन (मनरेगा कार्यक्रम पदाधिकारी, मढौरा) ने बताया कि बेस्ट प्रोसेसिंग प्लांट के निर्माण के लिए 3 पंचायतों में जमीन चिन्हित हो गई है, जिनमें दो पंचायतों के लिए एनओसी मिल गया है। शिलहौरी पंचायत में प्लांट का निर्माण कार्य प्रारंभ है, जबकि मिर्जापुर पंचायत में ले आउट हो गया है। माधोपुर का अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं मिला है। एनओसी मिलते ही निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here