पटना जिले में 309 पंचायतों में इस बार पंचायत चुनाव होगा। इसकी तैयारी चल रही है। पटना जिले के 673 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया है। सबसे अधिक धनरूआ और मसौढ़ी प्रखंड में अति संवेदनशील बूथ हैं। धनरूआ प्रखंड में तो सभी मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया है। यहां अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती होगी।

इस बार पंचायत चुनाव ईवीएम और बैलट पेपर से हो रहा है। सोमवार तक ईवीएम केरल से पटना पहुंचने की संभावना है। ईवीएम लाने के लिए 11 कंटेनर केरल भेजे गए हैं। वहां से ईवीएम सोमवार तक पटना पहुंचेंगे। फुलवारीशरीफ में ईवीएम रखे जाएंगे।  

इस बार मॉडल मतदान केंद्र भी बनाये जाएंगे

पंचायत चुनाव में इस बार मॉडल मतदान केंद्र भी बनाये जाएंगे जहां कोविड-19 के मानक के अनुसार तैयारी रहेगी। ऐसे मतदान केंद्रों पर मास्क, सेनेटाइजर आदि की व्यवस्था रहेगी। इसके अलावा मॉडल बूथ पर छोटे-छोटे बच्चों को खेलने के लिए भी व्यवस्था की जाएगी, क्योंकि ऐसी महिलाएं जो अपने बच्चे के साथ मतदान केंद्रों पर जाएंगी, उनके बच्चों के मनोरंजन के लिए वहां व्यवस्था रहेगी। फुलवारीशरीफ में दो मतदान केंद्रों को मॉडल के रूप में तैयार किया जा रहा है।

6 प्रखंड में पारा मिलिट्री की होगी तैनाती

मसौढ़ी, पुनपुन, पालीगंज, नौबतपुर, धनरूआ और दुल्हिन बाजार पंचायत चुनाव की दृष्टि से अति संवेदनशील हैं। पिछले पंचायत, विधानसभा और लोकसभा चुनाव में हुई घटनाओं को देखते हुए संबंधित प्रखंडों में पारा मिलिट्री की तैनाती की जाएगी। कितने पारा मिलिट्री फोर्स की जरूरत होगी, इसका आंकलन किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि जहां हिंसक घटनाएं होने की आशंका है, वहां अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here