AURANGABAD: औरंगाबाद में एक मुखिया ने नाइट कर्फ्यू के दौरान रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया। इस दौरान बार डांसरों के साथ मुखिया ने तमंचे पर डिस्कों किया। बार-बालाओं के साथ डांस के दौरान मुखिया ने फायरिंग भी की।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे बार-बालाओं के साथ मुखिया के डांस का वीडियो औरंगाबाद के नबीनगर थाना क्षेत्र का है। 21 जुलाई की रात में नाइट कर्फ्यू का उल्लंघन करते हुए एक पार्षद के घर पर आर्केष्ट्रा का प्रोग्राम हुआ था। मंच पर बार डांसरों के साथ बेलाई पंचायत के मुखिया प्रिंस प्रताप सिंह ने भी जमकर ठुमके लगाए थे। डांस करने के दौरान मुखिया ने पिस्टल निकालकर फायरिंग भी की थी। लेकिन आश्चर्य इस बात की है कि पूरी रात डीजे की धुन पर यह कार्यक्रम चलता रहा लेकिन इसकी भनक पुलिस को नहीं लग पाई। हालांकि फस्ट बिहार झारखंड इस वारयल वीडियो की पुष्टि नहीं करता। 

फायरिंग और डीजे की आवाज आसपास के लोगों ने सुनी लेकिन पुलिस के कान तक यह नहीं पहुंच पाई। इससे पुलिस पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन यह मामला तब सामने आया जब मुखिया के नर्तकियों के साथ डांस करते और पिस्टल से फायरिंग करते वीडियो सोमवार को वायरल हो गया। पुलिस के पास जब यह मामला पहुंचा तब वीडियो देखने के बाद मामले की जांच शुरु की गयी। जिसके बाद पार्षद के अलावा मुखिया के नबीनगर स्थित आवास और गांव में पुलिस ने छापेमारी की लेकिन इसमें पुलिस को सफलता नहीं मिली। 

बताया जाता है कि नबीनगर नगर पंचायत के चेयरमैन आरती देवी के खिलाफ कुछ पार्षदों ने अविश्वास प्रस्ताव लाया था। इसी की खुशी में पार्षद के घर पर आर्केष्ट्रा का आयोजन किया गया था। इस दौरान पार्षदों ने भी मंच पर जमकर ठुमके लगाए। जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें मुखिया की साफ पहचान हो रही है। एसपी कांतेश कुमार मिश्र ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

कोरोना को लेकर लोग अब भी लापरवाही बरत रहे हैं। लोगों को ऐसा लग रहा है कि मानों कोरोना अब पूरी तरह से खत्म हो गया है। लोगों को समझना चाहिए कि अभी खतरा टला नहीं है। हां कोरोना के मामले जरूर कम हुए है। कोरोना के मामले कम होता देख सरकार ने थोड़ी रियायत जरूर दी है। रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू किया गया है।

लेकिन इसका भी ध्यान नहीं रखा गया और इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान कोरोना के गाइडलाइन का भी ख्याल नहीं रखा गया और ना ही कानून का ही पालन किया गया। मंच पर खुल्लेआम  पिस्टल से फायरिंग की गयी। जबकि हर्ष फायरिंग कानूनन अपराध है इसके बावजूद मुखिया नाइट कर्फ्यू के दौरान बार-डांसरों के साथ डांस करते नजर आए और पिस्टल से फायरिंग कर इलाके में दहशत फैलाने का काम किया। ऐसे में अब देखना यह होगा कि पुलिस इस मामले में क्या कार्रवाई करती है। हालांकि फस्ट बिहार झारखंड इस वारयल वीडियो की पुष्टि नहीं करता। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here