बिहार विधानसभा का मॉनसून सत्र शुक्रवार से शुरू हो रहा है जो 30 जून तक पांच दिन चलेगा। सरकार का फोकस अनुपूरक बजट और विधायी कार्यों पर होगा। लेकिन आरजेडी समेत कई विपक्षी दलों के एजेंडा पर सेना में बहाली की अग्निपथ स्कीम को वापस लेने की मांग का प्रस्ताव सदन से सर्वसम्मत पास कराना है। तेजस्वी यादव की आरजेडी चाहती है कि सदन से अग्निपथ स्कीम वापस लेने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास किया जाए जिसकी संभावना कम है।

सदन में विपक्ष अग्निपथ वापसी के प्रस्ताव को सदन से पारित करने की मांग उठाकर नीतीश सरकार और बीजेपी-जेडीयू गठबंधन को घेरेगा। यह प्रस्ताव आता है तो जेडीयू के लिए संतुलन बनाने की चुनौती होगी जो कई बार स्कीम पर पुनर्विचार की मांग नरेंद्र मोदी सरकार से कर चुकी है। विपक्ष के ऐसे प्रस्ताव का बीजेपी खुलकर विरोध करेगी और किसी भी कीमत पर इसे पास नहीं होने देगी। विधानसभा में जेडीयू इस प्रस्ताव पर किस तरह का स्टैंड लेती है, यह देखना दिलचस्प होगा।

आरजेडी के सीनियर विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा है कि मॉनसून सत्र में हम लोग मांग करने जा रहे हैं कि अग्निपथ स्कीम वापस लेने के लिए विधानसभा से सर्वसम्मत प्रस्ताव पास किया जाए। उन्होंने कहा कि आरजेडी इस स्कीम के खिलाफ है और वो चाहती है कि इस योजना को केंद्र सरकार वापस ले।

कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा ने भी कहा है कि उनकी पार्टी इस योजना के खिलाफ कड़ा विरोध दर्ज करेगी और इसे तत्काल वापस लेने की मांग उठाएगी। शर्मा ने कहा कि 27 जून को उनकी पार्टी इस मामले को उठाएगी। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों की तरह सरकार को इस स्कीम को वापस लेना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here