उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बाद अब राजधानी दिल्ली में भी कांवड़ यात्रा (Kawad Yatra) पर रोक लगा दी गई है. सरकार द्वारा फैसला लिया गया है कोरोना को देखते हुए दिल्ली में कांवड़ यात्रा का आयोजन नहीं किया जाएगा. दिल्ली डिज़ास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (DDMA) ने इससे सम्बंधित औपचारिक आदेश जारी किया है. 

दिल्ली में रद्द कांवड़ यात्रा

आदेश में कहा गया है कि 25 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा से सम्बंधित कोई भी जश्न, जुलूस या गैदरिंग दिल्ली में आयोजित करने की अनुमति नहीं है. उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा पर बैन लगा दिया गया है लेकिन इसके बावजूद भीड़ लगाने या जुलूस निकालने से कोरोना के फैलने का खतरा है जिसके मद्देनजर ये फैसला लिया गया है.

यूपी-उत्तराखंड ने भी की कैंसिल

इससे पहले उत्तराखंड और यूपी सरकार ने भी कांवड़ यात्रा पर रोक लगाने का आदेश जारी किया था. उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी द्वारा तो मुख्यमंत्री पद संभालते ही कांवड़ यात्रा पर रोक लगाने का फैसला लिया गया था. वहीं यूपी सरकार ने इस फैसले को लेने में काफी देरी लगाई थी. राज्य सरकार का पहले प्रयास था कि कोरोना प्रोटोकॉल्स का पालन करते हुए कांवड़ यात्रा को करवा दिया जाए. लेकिन बाद में जब सुप्रीम कोर्ट की तरफ से भी सफाई मांगी गई और कोरोना की तीसरी लहर का खतरा भी महसूस हुआ, तब योगी सरकार ने कांवड़ यात्रा को रद्द कर दिया.

अब दिल्ली में भी DDMA द्वारा इसी कड़ी में ये अहम फैसला जारी कर दिया गया है. कोरोना काल में कांवड़ यात्रा के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना किसी भी सरकार के लिए बड़ी चुनौती साबित हो सकता है, यही वजह है कि अब एक-एक कर राज्य सरकारें इस यात्रा को रद्द करने का फैसला सुना रही हैं.

पीएम ने दी तीसरी लहर की चेतावनी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर लगातार चेतावनी दी जा रही है. कहा जा रहा है कि छोटी लापरवाही भी बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकती है. वहीं अब तो नीति आयोग ने भी साफ कह दिया है कि आने वाले 125 दिन काफी अहम होने जा रहे हैं. ऐसे में अब सभी सरकारें खुद को कोरोना की तीसरी लहर के लिए तैयार कर रही हैं. कोशिश की जा रही है कि जो गलतियां दूसरी लहर के दौरान हुई थीं, उन्हें अब ना दोहराया जाए. इसी कड़ी में अब तीन राज्यों ने कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here