samastipur;- सावन माह की पहली सोमवारी को लेकर शहर के थानेश्वर स्थान मंदिर पर हजारों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं ने गेट पर से ही बाबा की पूजा-अर्चना व जलाभिषेक किया। इस दौरान कोरोना को लेकर लगाए गए लॉकडाउन पर आस्था भारी पड़ती दिखाई दी। मंदिर के बाहर एक भी पुलिस गाइडलाइन का पालन कराने को मौजूद नहीं थी। इस बीच चार बजे सुबह से ही मंदिर गेट पर श्रद्धालु पहुंचने लगे थे। सभी ने गेट पर ही बाबा के नाम की धूपबत्ती जलाकर पूजा व आरती करते हुए बेलपत्र, भांग, धतूरा आदि चढ़ाया।

वहीं गेट पर से ही बाबा का ध्यान करते हुए गंगाजल भी चढ़ाया। कुछ श्रद्धालुओं के गेट पर गंगाजल चढ़ाने के बाद मंदिर के पंडा ने वहां पर बाल्टी रखवा दिया। जिसमें गंगाजल चढ़ाया जाने लगा। फिर उससे बाबा का अभिषेक किया गया। इसको लेकर मंदिर के पुजारी संजय पंडा ने बताया कि पांच हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने जलाभिषेक किया। गंगाजल के लिए बाल्टी लगाकर उसे बाबा को चढ़ाया गया। देर शाम तक श्रद्धालु आते रहे।

मंदिर के बाहर रहा मेले जैसा माहौल रात में हुआ बाबा का विशेष शृंगार
थानेश्वर मंदिर के बाहर पहली सोमवारी की पूजा करने को हजारों श्रद्धालु जुटे रहे। इससे मेले जैसा माहौल बना हुआ था। पूजा बाद श्रद्धालुओं ने दुकानों मंें प्रसाद व खिलौना आदि की खरीदारी की। वहां कोरोना गाइड का पालन कराने के लिए पुलिस प्रशासन की ओर से किसी सिपाही की तैनाती नहीं थी।सावन की पहली सोमवारी को लेकर रात में बाबा की विशेष श्रृंगार पूजा की गई। जहां मंदिर के पुजारी के अलावा मंदिर की पूजा में प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालु मौजूद रहे। पंडा ने बताया कि हर सोमवार को बाबा की श्रृंगार पूजा होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here