समस्तीपुर। जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने गुरुवार को जिले में विभिन्न स्थानों पर बाढ़ से सुरक्षा के लिए जल संसाधन विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों का स्थल निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि मिथिला में बाढ़ के प्रकोप को कम करना मुख्यमंत्री की शीर्ष प्राथमिकताओं में शामिल है। इसके लिए जल संसाधन विभाग द्वारा बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज-3बी का काम तेजी से कराया जा रहा है। इसे सितंबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य है। बागमती योजना के फेज-5 ए का काम भी जल्द शुरू होगा। दोनों फेज का काम पूरा होने पर समस्तीपुर, दरभंगा और मुजफ्फरपुर जिले के विभिन्न प्रखंडों के कुल 3.36 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को बाढ़ से राहत मिलेगी। बाद में मंत्री जल संसाधन विभाग के हथौड़ी स्थित निरीक्षण भवन पहुंचे वहां उन्होंने पौधरोपण भी किया। यहां इस मौके पर उन्होंने ऐलान किया कि हथौड़ी निरीक्षण भवन में बाढ़ प्रबंधन का क्षेत्रीय कार्यालय खुलेगा। जल संसाधन मंत्री जिले के शिवाजीनगर प्रखंड में बोराज और बेलहर मसौढ़ी गांव गए। यहां बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना फेज 3 बी के अंतर्गत सिरनिया-फुहिया तटबंध के किमी 25.85 से किमी 28 के बीच कराये गए तटबंध सु²ढ़ीकरण एवं बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यों को देखा। उन्होंने कार्य की तेजी पर प्रसन्नता जतायी।

समस्तीपुर के फूहिया में करेह नदी पर 74 किमी लंबाई में तटबंध के 70 किमी में ऊंचीकरण एवं सु²ढ़ीकरण का काम किया जा रहा है। इसका काम भी अस्सी फीसद पूरा हो गया है। इसके 4 किलोमीटर भाग में नया तटबंध बनाया जाना है। इस काम से 2.90 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को जल प्लावन से मुक्त किया गया है। जल संसाधन मंत्री इसके बाद बूढ़ी गंडक बाएं तटबंध पर मिर्जापुर, बेगमपुर और निरुल्लापुर में विभाग द्वारा किए गए स्लोप पिचिग और अप्रोन के कार्य का भी निरीक्षण किया। श्री झा ने बताया कि बिहार में जल संसाधन विभाग के अधीन आने वाले सभी तटबंध पूरी तरह सुरक्षित हैं। विभागीय अधिकारियों को सभी तटबंधों की चौबीसो घंटे निगरानी करने के निर्देश दिये गये हैं। क्या है बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना-

बागमती बाढ़ प्रबंधन योजना के फेज 3 बी और 5 ए के तहत समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर और दरभंगा जिले में दो चरणों में कार्य कराया जाना है। इसके प्रथम चरण में फेज-3क्च के तहत मौजूदा सिरनिया-फुहिया तटबंध का 70.42 किमी की लंबाई में सु²ढ़ीकरण और प्रस्तावित रीच के अंतिम छोर पर फुहिया के निकट तटबंध-रहित 4.00 किमी भाग में नये तटबंध के निर्माण के साथ-साथ रुपांकण के अनुसार संरचना निर्माण किया जा रहा है। फेज 3 बी का कार्य 52 प्रतिशत पूरा हो चुका है। फेज 5ए के तहत बागमती दाएं तटबंध का बेनीबाद से हायाघाट (किमी 89.08 से किमी 110.96) तथा बागमती दाएं तटबंध का बेनीबाद से सोरमघाट के बीच नवनिर्माण और बागमती बाएं तटबंध से खिरोई दायां तटबंध तक 13.54 किमी लंबाई में जैकेंटिग तटबंध का निर्माण और संरचना निर्माण किया जाना है। दोनों फेज के कार्यान्वयन से तीनों जिलों के कुल 3.36 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को बाढ़ से राहत मिलने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here