समस्तीपुर-दरभंगा दोहरीकरण का तीसरा चरण, किशनपुर- थलवारा 18 किलोमीटर के बीच कार्य शुरू नहीं हो पाया है। इससे इस वित्तीय वर्ष में भी दोहरी लाइन पर ट्रेन सेवा की उम्मीद न के बराबर है। डाउन लाइन बनाने के लिए बागमती, करेह नदी समेत पांच स्थानों पर बड़े-बड़े पुलों का निर्माण किया जाना है। लेकिन पुल निर्माण को लेकर अबतक कार्य शुरू नहीं किया गया है। यहां तक की किशनपुर-थलवारा के बीच मिट्‌टीकरण का भी कार्य नहीं हो पाया है। कार्य एजेंसी रेलवे के निर्माण विभाग के अभियंताओं का कहना है कि पुल के निर्माण में कम से कम तीन से चार सालों का समय लगेगा। कोरोना व लॉक डाउन के करण मिट्टी करण का कार्य नहीं हो पाया। उधर, निर्माण विभाग के अभियंता विजय शंकर सिंह ने कहा कि बरसात बाद मिट्टी करण व पुल निर्माण को लेकर कार्य शुरू किया जाएगा।

किशनपुर व हायाघाट के बीच 14, 15 व 15 ए पुल का होना है निर्माण

किशनपुर – थलवारा 18 किलोमीटर के बीच हायाघाट व थलवारा स्टेशन के बीच बागमती व करेह नदी दो रेलवे पुल 16 व 17 नंबर के अलावा किशनपुर व हायाघाट के बीच पुल नंबर 14, 15 व 15 ए का निर्माण किया जाना है। इस पुलों के पास अप लाइन के लिए एक-एक नया पुल पूर्ण हाेने की स्थिति में है। वहीं डाउन लाइन के लिए पुराने पुलों के स्थान पर नया पुल बनाया जाना है। नये पुल निर्माण को लेकर नक्शा संचिका तक ही सीमित है।

समस्तीपुर-दरभंगा रूट पर दोहरीकरण को तीन चरणों में बांटा गया था

समस्तीपुर-दरभंगा दोहरीकरण कार्य को जल्द पूरा करने के लिए 40 किलोमीटर की इस योजना को तीन चरणों में बांटा गया था। पहले चरण में समस्तीपुर-किशनपुर 10.50 किलोमीटर में दोहरीकरण का कार्य 2019 जुलाई महीने में पूरा कर ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया था। दूसरे चरण में थलवारा- दरभंगा के बीच करीब दस किलोमीटर में दोहरीकरण को पूरा किया गया। तीसरे चरण में थलवारा- किशनपुर के बीच 18 किलोमीटर में कार्य को 2022 मार्च तक पूर्ण करने का लक्ष्य था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here