पटना से दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस से यात्रा करने वाले यात्रीगण ध्यान दें .आपके लिए भारतीय रेल की तरफ से एक खुशखबरी है. अब आपको राजधानी एक्सप्रेस के सफर में तेजस एक्सप्रेस के सफर का आनंद मिलेगा. 1 सितंबर से पटना नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस अब तेजस राजधानी के नाम से जानी जाएगी.

इससे सफर करने वालों को अब तेजस की सुविधाओं का आनंद बिना कोई अतिरिक्त शुल्क दिये कराया जाएगा. भारतीय रेलवे ने 02309/02310 राजेंद्रनगर टर्मिनल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के मौजूदा एलएचबी रेक को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस तेजस रेक में बदलने का फैसला लिया है. मेट्रो और हवाई जहाज में सफर करने के दौरान मिलने वाली कई सुविधाएं इसमें भी दी जाएगी.

पहले मिला बर्थ नंबर ही नई ट्रेन में भी उनका बर्थ नंबर होगा. ट्रेन के टाइम-टेबल में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है. यह पहले की ही तरह ही अपने निर्धारित समय पर राजेन्द्र नगर स्टेशन से चलकर पटना, दीन दयाल उपाध्याय, प्रयागराज, और कानपुर सेंट्रल के रास्ते नई दिल्ली जाएगी.

सुरक्षा का रखा गया है ख्याल

इस ट्रेन में सुरक्षा की दृष्टि से काफी सुविधाएं दी गई है. इसमें आग का पता लगाने के लिए अपग्रटेड फॉयर ब्रिगेड सिस्टम लगाया गया है. साथ ही इसके डिब्बे ऑटोमैटिक प्लग डोर सिस्टम और सीसीटीभी कैमरे से भी लैस है. बिना दरवाजा बंद हुए ट्रेन नहीं चलेगी. इससे चलती ट्रेन में यात्री चढ़ और उतर नहीं सकते हैं. इसमें एडवांस ब्रेकिंग सिस्टम लगाया गया है जिससे कभी ट्रेन में आग लगती है तो ये खुद व खुद रूक जाएगी. आधुनिक सुविधाओं से लैस यह ट्रेन यात्रियों के लिए काफी आरामदायक होगी. स्पीड में रहने पर भी यात्रियों को इसका एहसास नहीं होगा.

तेजस रेक ऑटोमेटिक प्लग इनडोर प्रणाली से युक्त होंगे. कोचों के सभी प्रवेश द्वार केंद्रीकृत रूप से नियंत्रित होंगे. मेट्रो की तरह ही ट्रेन की बोगी के सभी दरवाजे एकसाथ खुलेंगे और ट्रेन तबतक नहीं खुलेगी जबतक सभी दरवाजे एकसाथ ऑटोमेटिक बंद नहीं होंगे. सभी कोचों में सीसीटीवी कैमरे लगे होंगे. यात्री सुरक्षित होकर अपनी यात्रा कर सकेंगे. ट्रेन के प्रत्येक कोच में दो एलईडी डिस्पले लगा होगा जो यात्रा से संबंधित तमाम जानकारी देगा. यानी अगला स्टेशन कौन सा है, उसकी दूरी अभी कितनी है, ट्रेन की स्पीड, अगर ट्रेन लेट है तो उसकी जानकारी वगैरह उसपर दी जाएगी.

इमरजेंसी स्थिति के लिए टॉक बैक पर बात करने की भी सुविधा सभी कोचों में दी गयी है. शौचालय भी इस ट्रेन की बोगी में आम नहीं है. अत्याधुनिक प्रणाली से बने शौचालय यात्रियों के लिए सुविधाजनक होगा. ‘Infant care seat’ शौचालय में शिशु देखभाल हेतु कारगर होगा. वहीं तेजस रैक की बोगियों में एयर स्प्रिंग सस्पेंशन लगाया गया है. यह यात्रियों को आरामदायक सफर का आनंद देता है. वहीं अपर या मिडिल बर्थ तक पहुंचने के लिए भी सुविधाओं का खास ख्याल रखा गया है. पर्दों के बजाय आसान सैनिटाइजेशन के लिए रोलर ब्लाइंड्स दिए गए हैं.

तेजस रैक की बोगियों में सभी यात्री के लिए मोबाइल चार्जिंग पॉइंट दिया गया है. सभी कोचों में ऑटोमेटिक फायर अलार्म और डिटेक्शन सिस्टम भी लगाए गए हैं. ट्रेन के अंदर सिगरेट पीना भी प्रतिबंधित रहेगा. अलार्म के द्वारा इसकी सूचना सार्वजनिक होगी. अगर ट्रेन के किसी हिस्से में आग लगती है तो ऐसी स्थिति में ऑटोमेटिक ब्रेक लग जाएगा. ट्रेन की अधिकतम गति 160 किमी है. इन कोचों का निर्माण रेल कोच फैक्टरी, कपूरथला में हुआ है.

पटना के राजेंद्रनगर टर्मिनल से शाम 7 बजकर 10 मिनट पर यह ट्रेन रवाना होगी. जो पटना जंक्शन पर 7 बजकर 25 मिनट(शाम) पहुंचेगी. यहां 10 मिनट का ठहराव दिया गया है. वहीं दिल्ली तक के सफर में इस ट्रेन का स्टॉपेज दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, प्रयागराज जंक्शन, कानपुर सेंट्रल दिया गया है. कानपुर के बाद यह ट्रेन सीधा नई दिल्ली जाकर ही ठहरेगी, जो सफर का अंतिम स्टेशन होगा.

इस ट्रेन के किराये में कोई बदलाव नहीं किया गया है. IRCTC की आधिकारिक वेबसाइट पर आज 28 अगस्त को दिख रही जानकारी के तहत AC 3 Tier का किराया 2110 रुपया, AC-2 का किराया 2995 रुपया तो फर्स्ट क्लास यानि AC-1 का किराया 3660 रुपया देकर 12 घंटे और 5 मिनट के सफर में पटना-दिल्ली का सफर इस ट्रेन से तय किया जा सकेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here