चकमेहसी थाना क्षेत्र नामापुर की शांति नदी में शुक्रवार की शाम हुए नाव हादसे में लापता 7 लोगों का शव शनिवार को स्थानीय ग्रामीणों, गोताखोरों व एसडीआरएफ की टीम की मदद से बरामद होने के बाद गांव में चीख-पुकार से गमगीन माहौल बन गया। शवाें काे ग्रामीणों और स्थानीय गोताखोरों की मदद से निकाला गया। इसमें एक ही परिवार के पति-पत्नी और बेटे शामिल हैं। मुजफ्फरपुर जिले के पियर थाना के हत्था ओपी क्षेत्र के सखोड़ा निवासी स्वर्गीय सरीखन राम के पुत्र विजय राम, पत्नी रीना देवी और पुत्र रवि कुमार को स्थानीय ग्रामीणों के सहयाेग से 9:00 बजे सुबह में पानी से निकाल लिया गया।

नाव खुलने से पहले नहीं ली थी मौसम की जानकारी, अंधेरे व तेज हवा की वजह से शांति नदी में डूब गई थी, 15 घंटे बाद निकला पति-पत्नी और बच्चे का शव

दूसरी ओर नामापुर पंचायत के पैक्स अध्यक्ष राजेश कुमार साह का छोटे भाई अर्जुन साह व एक 35 वर्षीय का शव दाेपहर 1:30 बजे निकाला गया है। सुशील साह भी चकमेहसी बाजार से घर नामापुर लौट रहे थे। वहीं नामापुर गांव के कमलेश शाह दाे बेटे अमन कुमार व रोहित कुमार को सुबह 10:00 बजे निकाल लिया गया। नामापुर नौका हादसा में अंतिम शव सुशील कुमार का दाेपहर बाद 3:40 बजे एसडीआरएफ की टीम ने बरामद करने में सफलता हासिल कर ली। वहीं स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि जब तक डीएम सीएम आकर कोई सड़क मार्ग का ठोस निर्णय नहीं निकलेंगे, तब तक शव काे पोस्टमार्टम के लिए नहीं जाने देंगे। ग्रामीण नामापुर जाने वाली सड़क के ऊंची करण की मांग को लेकर सीएम, डीएम को बुलाने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए देने पर अडिग थे। बाद में थानाध्यक्ष व जनप्रतनिधियों के समझाने के बाद लोग शांत हुए।

^नाव 5 बजे शाम को खोली गई थी। इससे पूर्व भी नाव गई जो सुरक्षित आ गई थी। आंधी आने के कारण यह हादसा हुआ है। इस मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है।
-रविन्द्र कुमार दिवाकर, अनुमंडल आपदा प्रभारी सह एसडीओ सदर

नाव के परिचालन में नियम का पालन नहीं

बाढ़ ग्रसित क्षेत्रों में नाव परिचालन को लेकर आपदा की ओर से कई सुरक्षात्मक नियम हैं। कल्याणपुर का नाव हादसा नियमों के विपरीत सरकारी नाव के परिचालन को लेकर हुआ है। निर्धारित क्षमता के अनुरूप ही सवारी लेनी है। जांच के लिए सीओ मजिस्ट्रेट होते हैं। हालांकि अंधेरा होने व आंधी आने के कारण नाव असंतुलित हो गई। जिससे यह हादसा हुआ। यहां नाव परिचालन से पूर्व मौसम का मिजाज भी नहीं देखा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here