पटना: बिहार में मानसून के सक्रिय होने से एक ओर लोगों को जहां गर्मी से राहत मिली है तो दूसरी वज्रपात से कई घर तबाह हो गए हैं. मंगलवार को वज्रपात की चपेट में आने से 16 लोगों की मौत हो गई. पूर्वी चंपारण में चार, भोजपुर में तीन, सारण में तीन, अररिया में दो, पश्‍च‍िम चंपारण में दो, मुजफ्फरपुर में एक और बांका में एक व्यक्ति की मौत हुई है. सबसे ज्‍यादा लोगों की मौत पूर्वी चंपारण में हुई है. इसके बाद भोजपुर और सारण में हुई है.

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने इस घटना को लेकर शोक जताया है. उन्‍होंने सभी मृतकों के आश्र‍ितों को 4-4 लाख रुपये आपदा राहत कोष से देने की घोषणा की है. ज्ञात हो कि अगले 48 घंटों तक मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया था. मौसम विभाग ने राज्‍य के सभी 38 जिलों में आंधी, गरज और वज्रपात के साथ मध्‍यम से भारी बारिश को लेकर अलर्ट किया था. 

पूर्वी चंपारण में चार लोगों की मौत 

पूर्वी चंपारण में वज्रपात से महिला और दो बच्चे समेत चार लोगों की मौत हुई है. इसके अलावा चार अन्‍य लोग गंभीर रूप से जख्‍मी भी हुए हैं. मृतकों में सुगौली थाना क्षेत्र स्थित बगही गांव के रामायण कुमार, छौड़ादानों थाना क्षेत्र के बुधवहा गांव की कुरैशा खातून, रक्सौल प्रखंड के गाद बहुअरी गांव के मो. दानिश और आरफा खातून शामिल हैं. वहीं बांका जिले के शंभूगंज प्रखंड क्षेत्र के बसुहारा गांव में सुनील तांती की मौत हुई है. भोजपुर जिले में कुल तीन लोगों की मौत हुई है. इसमें एक शख्स मुफस्सिल थाना क्षेत्र के कड़रा बसंतपुर गांव निवासी जय प्रकाश साह था. जय प्रकाश के बड़े भाई कृष्णा साह ने बताया कि मंगलवार की दोपहर वह अपने बागीचे की रखवाली करने गया था. इसी दौरान वज्रपात की चपेट में आने से मौत हो गई. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here