बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर दूसरे राज्यों से मंगाए गए सभी ईवीएम का 20 अगस्त तक फर्स्ट लेवल जांच (एफएलसी) होगा। राज्य  निर्वाचन आयोग ने सभी जिलों को सभी ईवीएम का एफएलसी कराने का निर्देश दिया है। एफएलसी को लेकर सभी जिलों को संबंधित ईवीएम निर्माता कंपनियों से तकनीकी विशेषज्ञों को आमंत्रित करने को लेकर पहल करने के भी निर्देश दिए है। 20 अगस्त तक सभी जिलों में एफएलसी की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। इसके लिए सभी जिलों के जिलाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी, पंचायत को आवश्यक निर्देश जारी किये गए हैं।

आयोग सूत्रों के अनुसार जिला प्रशासन की विशेष निगरानी में ईवीएम का फर्स्ट लेवल जांच किया जाएगा। संबंधित ईवीएम निर्माता कंपनियों के इंजीनियर चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश पर सभी जिलों में जाकर जांच करेंगे। ईवीएम की जांच के दौरान प्रशासन के अतिरिक्त उक्त क्षेत्र के प्रमुख संभावित प्रत्याशियों को भी आमंत्रित किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार पंचायत चुनाव में इस्तेमाल होने वाले सभी 1 लाख 88 हजार ईवीएम की फर्स्ट लेवल जांच की जाएगी। 

एफएलसी के बाद ही चुनाव में इस्तेमाल होगा ईवीएम 

राज्य के पंचायत चुनाव में चार पदों मुखिया, वार्ड सदस्य, पंचायत समिति सदस्य व जिला परिषद सदस्य के लिए ईवीएम के माध्यम मतदान होना निर्धारित है। जबकि शेष दो पदों पंच व सरपंच के चुनाव के लिए बैलेट पेपर के माध्यम से चुनाव होगा। सूत्रों ने बताया कि फर्स्ट लेवल जांच में ईवीएम के पूरी तरह से सही पाए जाने पर ही उसका इस्तेमाल पंचायत चुनाव के दौरान किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here