यूपी विधान सभा चुनाव 2022 (Assembly Election 2022) के लिए अपनी सियासी जमीन मजबूत करने में जुटी आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) भगवान राम के दरबार में हाजिरी लगाने जा रहे हैं. दिवाली से पहले 26 अक्तूबर को केजरीवाल अयोध्या पहुंचेगे. वहां राम लला के दर्शन करने के साथ हनुमान मंदिर भी जाएंगे. हालांकि, राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले से पहले वह कई बार इस पर सवाल भी उठा चुके हैं, जिसको लेकर उनकी काफी आलोचना भी हुई थी.

दरअसल, इस अयोध्या यात्रा को भी अब यूपी चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है. इससे पहले, उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन पर देशवासियों को बधाई भी दी थी. उन्होंने कहा था कि रामलला का आशीर्वाद हम पर बना रहे. उनके आशीर्वाद से हमारे देश को भुखमरी, अशिक्षा और गरीबी से मुक्ति मिले और भारत दुनिया का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र बने. वहीं,आने वाले समय में भारत दुनिया को दिशा दे. हालांकि दिल्ली के सीएम की इस यात्रा को भी अब यूपी चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है.

बुजुर्गों को फ्री में अयोध्या में राम मंदिर दर्शन कराने ले जाएंगे- CM

गौरतलब है कि इसी साल मार्च महीने में दिल्ली विधानसभा में LG के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान सीएम ने कहा था कि वह दिल्ली में रामराज्य की अवधारणा लागू करने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर बनने जा रहा है, जब भी यह मंदिर बनकर तैयार होगा वह दिल्ली के सभी बुजुर्गों को फ्री में अयोध्या में राम मंदिर दर्शन कराने लेकर जाएंगे. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं भगवान राम और हनुमान का भक्त हूं. हम जनता की सेवा के लिए रामराज्य की संकल्पना से प्रेरित होकर 10 सिद्धांतों का पालन करते आ रहे हैं. क्योंकि प्रभु श्रीराम हम सबके अराध्य हैंय मैं व्यक्तिगत तौर पर हनुमान जी का भक्त हूं और हनुमान जी श्रीराम जी के भक्त हैं, इस नाते मैं दोनों का भक्त हूं.

दिल्ली में कही थी रामराज्य लाने की बात

बता दें कि सीएम केजरीवाल ने कहा था कि प्रभु श्रीराम अयोध्या के राजा थे, उनके शासनकाल में सब लोग सुखी थे, किसी को किसी प्रकार का दुख नहीं था, इसलिए उसे रामराज्य कहा गया. राम राज्य एक अवधारणा है. रामचंद्र जी भगवान थे, हम उनके सामने एक तुच्छ इंसान हैं. हम उनसे किसी भी प्रकार से तुलना नहीं कर सकते, लेकिन उनसे प्रेरणा लेकर अगर हम रामराज्य के रास्ते पर चलकर एक कोशिश भी कर सकें तो हमारा जीवन धन्य हो जाएगा. वहीं, राम राज्य की उसी अवधारणा को दिल्ली में साफ-सुथरी नीयत से लागू करने के लिए बीते 6 साल से हम कोशिश कर रहे है.

source-tv9

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here